Thursday, January 15, 2009

मैं भी हीरो बन सकता हूं



बिल्लू बंदर फैशन का मारा
सारा जंगल उससे हारा
पढ़ना लिखना उसे न भाता
सूट पहनकर डिस्को जाता
अपनी सूरत देख-देखकर
मन ही मन में खूब इतराता
मैं भी हीरो बन सकता हूं
शाहरुख से मिलता-जुलता हूं
कर दूंगा मैं सबकी छुट्टी
बस एक चांस दिला दे कोई
बिल्लू की मम्मी परेशान
एक दिन उसके पकड़े कान
जमकर चपत लगाई दो
बिल्लू रोया हूऽऽहूऽऽ होऽऽ होऽऽ

4 comments:

Udan Tashtari said...

बहुत सही!!

विनय said...

तूसी छा गये

---मेरा पृष्ठ
चाँद, बादल और शाम

seema gupta said...

बिल्लू बंदर फैशन का मारा
" बिल्लू बन गया gentalman "

Regards

beehu said...

bahut achche chacha!
bihu